Friday, July 20, 2018

प्राचीन काल से ही चूड़ियाँ महिलाओं के सौंदर्य और सौभाग्य का प्रतीक रही हैं. चूड़ियाँ केवल सौन्दर्य ही नहीं बढ़ातीं हैं, बल्कि स्वास्थ्य और मानसिक दशा को भी ठीक रखती हैं. चूड़ियाँ कई रूपों में प्रयोग की जाती हैं – चूड़ी, कंगन, कड़ा और ब्रेसलेट. पुरुष भी इसको कड़े के रूप में या ब्रेसलेट के […]

Read More

आषाढ़ शुक्ल एकादशी को “देवशयनी एकादशी” कहा जाता है. इस एकादशी से अगले चार माह तक श्रीहरि विष्णु योगनिद्रा मे चले जाते हैं इसलिए अगले चार माह तक शुभ कार्य वर्जित हो जाते हैं. इसी समय से चातुर्मास की शुरुआत भी हो जाती है. इस एकादशी से तपस्वियों का भ्रमण भी बंद हो जाता है. […]

Read More

आंखें आमतौर पर व्यक्ति के स्वभाव और व्यक्तित्व के बारे में बताती हैं. आंखों का रंग, आँखों की हरकत और आंखों के आंसू बहुत कुछ कहते हैं. आंखों को पढ़ना जान लें तो सामने वाले के मन को भी जान सकते हैं. प्रेम और संबंधों के मामले में आँखों की भाषा जान लेने से बिना […]

Read More