विराट कोहली : टीम को लीड नहीं दिला पाने से निराश

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने एक बार फिर साबित किया है कि वो इस समय विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शुमार क्यों हैं. एक-एक रन के लिए सघर्ष करने वाले कैपटन कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन एक छोर संभाले रखा और अपनी टीम को 274 रनों के स्कोर तक पहुंचाया. यह स्कोर हालांकि इंग्लैंड की पहली पारी के स्कोर 287 रनों से 13 रन कम रहा. लेकिन फिर भी टीम इंडिया की मैच में दमदार वापसी हो गई.विराट कोहली ने कल रात खेली 149 रनों की अपनी पारी में एक शानदार छक्का और 22 चौके भी लगाए.अपनी इस शानदार पारी के बाद भारतीय कप्तान बीसीसीआई टीवी से बात करते हुए अपनी पारी के बारे में कई बातें शेयर की. जिसमें उन्होंने कहा कि इंग्लैंड के स्कोर से 13 रन पहले टीम के ऑल-आउट होने से वो निराश हैं. हालांकि इसके साथ ही उन्होंने अपनी टीम के निचलेक्रम के बल्लेबाज़ों भी जमकर तारीफ की.

विराट ने कहा, ”अपनी टीम की मदद करने के लिए मैंने मैदान से बाहर ज्यादा से ज्यादा कोशिश की. मैं इस स्थिती में सिर्फ शतक बनाना नहीं चाहता था बल्कि चाहता था कि हमारी टीम को 10-15 रनों की लीड मिले. मैं उस समय(273 रनों पर) आउट होने काफी निराश हुआ.”

इसके साथ ही विराट ने कहा कि हमारी टीम अब भी मुकाबले में बनी हुई है और जब आप टीम की इस तरह से मदद करते हैं तो अच्छा लगता है.अपनी पारी और मैच की परिस्थिती के ज़िक्र के बाद कप्तान कोहली पांड्या, उमेश और इशांत के योगदान की भी सराहना की. विराट ने कहा, ”पांच विकेट गंवाने के बाद हार्दिक ने शानदार बल्लेबाजी की, हार्दिक के बाद उमेश और इशांत ने अच्छा समर्थन दिखाया. इसलिए मैं इंग्लैंड टीम के स्कोर के इतना करीब पहुंचने के लिए उन्हें क्रेडिट देना चाहूंगा. उन लोगों ने मुझे पूरा समर्थन दिया जिसकी वजह से मुझे भी काफी कॉन्फिडेंस मिला.”

इससे साफ पता चलता है कि विराट कोहली चाहते थे कि टीम इंडिया को कुछ रनों की लीड मिले जिससे की वो मानसिक तौर पर इंग्लैंड पर दवाब बना सके.साथ ही भारतीय कप्तान ने कहा कि ”एक समय पर स्थिती बेहद मुश्किल हो चली थी लेकिन मैंने उस समय हालात का लुत्फ उठाने का मन बनाया. मैंने इसे एक चुनौती के तौर पर स्विकार करने का मन बनाया. मेरी ये कोशिश थी कि मैं टीम के स्कोर को जितना आगे तक ले जा सकूं उतना अच्छा है. ये मेरी मानिसक और शारीरिक क्षमता की भी परीक्षा थी लेकिन मैं खुश हूं कि हम इंग्लैंड के स्कोर के इतना नज़दीक पहुंचे.”